• Thu. Apr 25th, 2024

लीबिया में फिर गृहयुद्ध की आहट, कॉमेडियन की हत्या के बाद संघर्ष में अब तक 23 की मौत, जारी है हिंसा

 त्रिपोली
सालों से अशांत रहा लीबिया एक बार फिर से गृहयुद्ध की तरफ बढ़ चला है और देश की राजधानी त्रिपोली में भारी हिंसा हो रही है और अब तक 23 लोगों की हत्या की जा चुकी है और कई दर्जन लोग घायल हो चुके हैं। लीबिया में प्रतिद्वंदी सरकारों द्वारा समर्थित मिलिशिया के बीच ये संघर्ष हो रहा है, जो काफी हिंसक हो चुका है और शनिवार को राजधानी त्रिपोली की स्थिति पिछले दो सालों में सबसे खराब हो गई थी। अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, आशंका जताई जा रही है, कि देश काफी तेजी से गृहयुद्ध की तरफ बढ़ रहा है और एक बार फिर से देश में गृहयुद्ध शुरू हो सकता है।
 कैसे भड़की त्रिपोली में हिंसा?
 रिपोर्ट के मुताबिक, एक कॉमेडियन मुस्तफा बराका की हत्या के बाद तनाव में हिंसा का रूप ले लिया और अलग अलग मिलिशिया ग्रुप आपस में भड़ गये। कॉमेडियन मुस्तफा बराका सोशल मीडिया पर देश की खराब स्थिति, मिलिशिया और भ्रष्टाचार को लेकर लगातार व्यंग कसते रहते थे, जिसके बाद उनकी छाती में गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई। आपातकालीन सेवा के प्रवक्ता मालेक मेरसेट ने कहा कि, बराका की छाती में गोली लगने से मौत हो गई। मेरसेट ने कहा कि, आपातकालीन सेवाएं अभी भी घायलों और लड़ाई में फंसे नागरिकों को निकालने की कोशिश कर रही हैं। उन्होंने कहा कि, अलग अलग हिस्सों में अभी भी लड़ाई चल रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि, अब तक 140 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिनकी संख्या में भारी इजाफा हो सकता है, वहीं 64 परिवारों को लड़ाई के क्षेत्र से बाहर निकाला गया है। उन्होंने कहा कि, राजधानी में अस्पतालों और चिकित्सा केंद्रों पर गोलाबारी की गई है और एम्बुलेंस टीमों को नागरिकों को निकालने से रोक दिया गया, जो कि "युद्ध अपराध" है।

फिर से संघर्ष में फंसेगा लीबिया?
अलजजीरा की संवाददाता मलिक ट्रेना ने शनिवार को अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, ''कई इलाकों में स्थिति अब सुधार हुआ है और शांति लौटी है, लेकिन यहां के लोगों को अब भी डर है, कि लीबिया पूर्ण पैमाने पर संघर्ष के कगार पर फिर से आ सकता है।" आपको बता दें कि, लीबिया में सत्ता के लिए ही ये संघर्ष हो रहा है और सरकार के समानांतर एक और पक्ष अपनी सरकार होने का दावा करती है और दोनों पक्ष अलग अलग क्षेत्रीय मिलिशिया को समर्थन करती हैं। त्रिपोली में जो सरकार है, उसे अब्दुलहमीद अल-दबीबा चला रहे हैं और उनकी सरकार का नाम 'गवर्नमेंट ऑफ नेशनल यूनिटी' है और उनके प्रतिद्वंदी में जो प्रशासन बनाया गया है, उसका नेतृत्व फाथी बाशागा कर रहे है, जिन्हें देश के पूर्वी हिस्से की संसद का समर्थन प्राप्त है और अब दोनों प्रतिद्वंदी सरकारों के बीच झड़प होती रहती है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *