• Sun. May 19th, 2024

पूर्व राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव का 91 साल की उम्र में निधन

मास्को

सोवियत संघ के पूर्व राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव का 91 साल की उम्र में निधन हो गया. रूसी समाचार एजेंसी ने सेंट्रल क्लिनिकल अस्पताल के एक बयान के हवाले से कहा कि लंबी बीमारी के बाद उनका निधन हो गया. इसके अलावा कोई अन्य जानकारी नहीं दी गई. मिखाइल ने बिना रक्तपात के शीत युद्ध को खत्म करा दिया था, लेकिन सोवियत संघ के पतन को रोकने में नाकाम रहे थे.

गोर्बाचेव सोवियत संघ के अंतिम राष्ट्रपति (1990-91) थे. गोर्बाचेव का जन्म 2 मार्च 1931 को एक गरीब परिवार में हुआ था. गोर्बाचेव स्टालिन के शासन में बड़े हुए और द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मन कब्जे का अनुभव किया. युद्ध के बाद उन्होंने मास्को में कानून की पढ़ाई की थी. कम्युनिस्ट पार्टी में अपना करियर बनाया.  उन्होंने साम्यवाद में सुधार करने की मांग की. उन्होंने ग्लासनोस्ट (खुलेपन) और पेरेस्त्रोइका (परिवर्तन) की अवधारणाओं को पेश किया.

1985 में गोर्बाचेव चुने गए थे सोवियत संघ के नए नेता

गोर्बाचेव 1985 में सोवियत संघ के नए नेता चुने गए. वह 1985 से 1991 तक सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव थे. 1988 से 1989 तक वह सुप्रीम सोवियत के प्रेसिडियम के अध्यक्ष रहे. 1988 से 1991 तक वह स्टेट कंट्री हेड रहे. 1989 से 1990 तक उन्होंने सुप्रीम सोवियत के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया.

गोर्बाचेव को 1990 में मिला नोबेल शांति पुरस्कार

नोबेल समिति ने मिखाइल गोर्बाचेव 1990 में शांति पुरस्कार से सम्मानित किया था. समिति ने उन्हें यह पुरस्कार देते हुए कहा था कि पिछले कुछ वर्षों में पूर्व और पश्चिम के संबंधों में नाटकीय परिवर्तन हुए. टकराव की जगह बातचीत ने जगह ले ली. पुराने यूरोपीय राष्ट्र राज्यों ने अपनी स्वतंत्रता फिर से हासिल कर ली है. हथियारों की दौड़ धीमी हो रही है. हम हथियारों के नियंत्रण और निरस्त्रीकरण की दिशा में एक निश्चित और सक्रिय प्रक्रिया देख रहे हैं. कई क्षेत्रीय संघर्ष खत्म हो गए.

नोबेल समिति मिखाइल गोर्बाचेव को उनके कई और निर्णायक योगदान के लिए सम्मानित करना चाहती है. सोवियत समाज में वह जितना अधिक खुलापन लाए हैं, उससे अंतरराष्ट्रीय विश्वास को बढ़ावा देने में मदद मिली है. समिति की राय में यह शांति प्रक्रिया, जिसमें मिखाइल ने अहम योगदान दिया, विश्व समुदाय के लिए वैचारिक, धार्मिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विभाजन रेखाओं के पार अपनी गंभीर समस्याओं को हल करने के लिए नई संभावनाएं खोलती है.

सोवियत संघ के टूटने पर बहुत दुखी हुए थे गोर्बाचेव

मास्को में 25 दिसंबर 1991 को सोवियत संघ के राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव ने टीवी पर प्रसारित राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इस्तीफे की घोषणा की थी. गोर्बाचेव (90) ने अपने संस्मरणों में सोवियत गणराज्य के पतन को रोकने में विफल रहने पर अफसोस जताया था. गोर्बाचेव ने अपने संस्मरणों में लिखा- “मुझे आज भी इसका दुख है कि मैं अपने पोत को शांत समुद्र तक नहीं ला सका और देश में सुधार पूरा करने में विफल रहा.”

हालंकि कुछ लोगों का मानना है कि 1985 में सत्ता में आए गोर्बाचेव ने अगर राजनीतिक प्रणाली पर लगाम रखते हुए, सरकार के नियंत्रण वाली अर्थव्यवस्था को आधुनिक बनाने के प्रयास और दृढ़ता से किए होते तो सोवियत रूस का विघटन रोका जा सकता था.

मिखाइल मेरे नायकों में से एक थे: अरनॉल्ड

अरनॉल्ड ने मिखाइल गोर्बाचेव के निधन पर शोक जताते हुए ट्वीट किया- एक पुरानी कहावत है, “Never meet your heroes.” मुझे लगता है कि यह कुछ सबसे खराब सलाह है, जो मैंने सुनी है. मिखाइल गोर्बाचेव मेरे नायकों में से एक थे. उनसे मिलना एक सम्मान और खुशी की बात थी. मैं अविश्वसनीय रूप से भाग्यशाली था कि उन्हें एक दोस्त कहा. हम सभी उनके शानदार जीवन से सीख सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *