• Sun. May 19th, 2024

ऋषि मुनियों के अवशेष का खनन बर्दास्त नही सिद्धा पहाड़ हमारी धार्मिक आस्था का केंद्र : नारायण त्रिपाठी

Byadmin

Aug 31, 2022

सतना
चित्रकूट की वह पवित्र भूमि सिद्धा पहाड़ जहां से भगवान श्री राम ने सपथ ली थी कि वे निशाचरों का नाश कर ऋषि मुनियों की रक्षा कर धर्म की स्थापना करेंगे जिस तपोभूमि से भगावन श्री राम मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाऐ आज उसी पवित्र भूमि जहाँ के प्रमाण हमारे शास्त्रों में मौजूद है सिद्धा पहाड़ जिसका वर्णन हमारे रामायण में वर्णित है कि राक्षसों ने हमारे ऋषि मुनियों की हत्याएं कर उनकी अस्थियो मास मज़्ज़ा से पहाड़ का टीला बनाया उसी आस्था के केंद्र को आज सरकारे खनन कारोबारियों के हवाले करने जा रही है यह क्षेत्र की जनता हरगिज बर्दास्त करने वाली नही।

स्वयं माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी ने क्षेत्र में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पूर्व में सिद्धा पहाड़ का गुणगान किया था और आज उसी पहाड़ को खनन कारोबारियों को सौंपना समझ से परे है जो किसी भी कीमत में नही होने दिया जाएगा। सिद्धा पहाड़ हमारे ऋषि मुनियों की धरोहर है जो धर्म की रक्षा हेतु अपने प्राणों की आहुति दे दी हम उसकी रक्षा क्षेत्र की जन मानष के साथ मिलकर अवश्य करेंगे।

श्री त्रिपाठी ने कहा कि मै अपने वक्तातव्यो में पूर्व में भी कह चुका हूं कि भगवान श्री राम का जन्म  अयोध्या में अवश्य हुआ है लेकिन कर्मभूमि विंध्य के सतना जिले का चित्रकूट धाम रहा है यहां के रग रग में भगवान की तमाम यादे समाहित है इसलिए इसे जितना सुंदर और भव्य बनाया जा सकता है कार्य किया जाय यहां की धरोहरों भगवान की यादों को संजोने का कार्य हो यदि उन्हें नष्ट करने का कार्य होगा तो हर स्तर पर लड़ाई लड़ने का कार्य किया जाएगा। हमारे विंध्य के महत्व को कभी समझने का प्रयास तो कभी हुआ नही यदि यहां की धरोहरों से छेड़छाड़ किया गया तो मौन नही रहा जा सकता विकट लड़ाई का आगाज कर ईट से ईंट बजाने का कार्य हर स्तर पर किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *