• Sat. Jun 22nd, 2024

US के बाद अब पोलैंड में भारतीय से नस्लीय भेदभाव

नई दिल्ली
अमेरिका के बाद अब यूरोप में भारतीय नागरिक के साथ नस्लीय भेदभाव का मामला सामने आया है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो क्लिप वायरल हो रहा है जिसमें भारतीय शख्स को पैरासाइट (परजीवी) और जेनोसाइडर (नरसंहार करने वाला) कहा जा रहा है। पीड़ित भारतीय व्यक्ति की अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। वहीं, दुर्व्यवहार करने वाला खुद को अमेरिकी नागरिक बता रहा है।
वीडियो में देखा जा सकता है कि भारतीय शख्स उसे फिल्मिंग करने से मना करता है। इस पर 'हमलावर' कहता है कि वो वीडियो बना सकता है क्योंकि यह उसका देश है। अमेरिकी लड़का कहता है कि 'तुम पोलैंड क्यों आए हो? मैं तो वीडियो बनाऊंगा, क्योंकि मैं अमेरिका से हूं। यूएस में तुम लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है। तो तुम पोलैंड में क्या कर रहे हो?'

'तुम अपने देश वापस क्यों नहीं चले जाते?'
अमेरिकी शख्स आगे कहता है, 'क्या तुम्हें लगता है कि तुम पोलैंड पर आक्रमण करोगे? तुम्हारा अपना भी तो देश है। तुम अपने देश वापस क्यों नहीं चले जाते? यूरोप के लोग जानना चाहते हैं कि तुम सब गोरे लोगों की जमीन पर क्यों आ रहे हो? तुम अपने देश को क्यों नहीं बनाते हो? तुम पैरासाइट क्यों बनते जा रहे हो? तुम हमारी नस्ल का नरसंहार कर रहे हो। तुम एक आक्रमणकारी हो। घर चले जाओ। हम लोग तुम्हें यूरोप में नहीं देखना चाहते। पोलैंड पोलिश लोगों के लिए है और तुम पोलिश नहीं हो।'

अमेरिका में हमवतन ने ही किया दुर्व्यहार
गौरतलब है कि भारतीय मूल के एक अमेरिकी को कैलिफोर्निया में कुछ दिनों पहले अपने ही देशवासी से नस्ली दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा। आरोपी ने अपने हमवतन को घृणित हिंदू और घिनौना कुत्ता कहा। टेक्सास में भारतीय अमेरिकी समुदाय की चार महिलाओं के खिलाफ घृणास्पद अपराध की घटना होने के कुछ दिनों बाद यह मामला सामने आया।
कृष्णन जयरमन के साथ 21 अगस्त को कैलिफोर्निया के फ्रेमोंट के ग्रिमर बुलेवार्ड में 37 वर्षीय सिंह तेजिंदर ने यह दुर्व्यवहार किया। यूनियन सिटी के रहने वाले तेजिंदर पर नागरिक अधिकारों का उल्लंघन करने, हमला करने और शांति भंग करने के आरोप लगाए गए। जयरमन ने आठ मिनट से अधिक समय तक चली इस घटना को अपने फोन में रिकॉर्ड कर लिया था। जयरमन ने कहा कि वह इस घटना से डर गए थे। बाद में यह जानकर और भी परेशान हुए कि अपराधी भी भारतीय था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *