• Sat. Jun 22nd, 2024

हरियाली की चादर समेटे रोशनी से नहाया रहेगा सेंट्रल विस्टा एवेन्यू

नई दिल्ली।
सेंट्रल विस्टा एवेन्यू यानी भावी कर्तव्यपथ (राजपथ) के दोनों और का हिस्सा अब न केवल हरियाली की चादर समेटे होगा, बल्कि रोशनी से भी पूरी तरह नहाया रहेगा। सुरक्षाकर्मियों और सीसीटीवी की निगरानी के साथ यहां आने वाले लोगों को लंबा पैदल पथ एवं हर लॉन में जन सुविधाएं भी मिलेंगी। सभी तरह के वाहनों के लिए व्यापक पार्किंग, नहरों के ऊपर से गुजरते पलों से आवाजाही और वोटिंग का लुत्फ बरकरार रहेगा।

सेंट्रल विस्टा परियोजना का एक बड़ा और अहम हिस्सा सेंट्रल विस्टा एवेन्यू पूरी तरह तैयार हो चुका है। इसे नए भव्य स्वरूप में ऐतिहासिक विरासत के साथ नया आयाम दिया गया है। गणतंत्र दिवस की भव्य और गौरवशाली परेड के लिए भी विशेष स्ट्रक्चर तैयार किए गए हैं, ताकि हर साल परेड के समय होने वाले बदलावों से बचा जा सके। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेंट्रल विस्टा एवेन्यू का उद्घाटन करेंगे। समूचे राजपथ पर 75 ऐतिहासिक प्रकाश स्तंभ और सभी जंजीरों वाले लिंक बरकरार रखे गए हैं। उनके साथ ही 900 से ज्यादा नए प्रकाश स्तंभ लगाए गए हैं, जिससे कि लोगों की सुरक्षा ज्यादा मजबूत की जा सके। यह प्रकाश स्तंभ राजपथ के दोनों ओर, नहरों के आसपास, पेड़ों के पास, नई पार्किंग और इंडिया गेट क्षेत्र में लगाए गए हैं।

पार्किंग में खड़ी हो सकेंगी 1125 कारें
राजपथ पर दोनों ओर, नहरों के किनारे लाल ग्रेनाइट पत्थरों का पैदल पथ तैयार किया गया है। साढ़े 16 मीटर लंबा पैदल पथ राजपथ, लॉन, नहरों के आसपास और इंडिया गेट के आसपास से गुजरता है। पूरे क्षेत्र में 400 से ज्यादा बेंच लगाई गई हैं, जिससे कि आसानी से लोग बैठ सकें। डेढ़ सौ से ज्यादा कूड़ेदान और साढ़े छह सौ से ज्यादा नए संकेतक भी लगाए गए हैं। दोनों तरफ की नहरों पर 16 स्थाई पुल बनाए गए हैं। इनके दूसरी तरफ व्यापक पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इस पार्किंग में 1125 कारें, 40 बसों के साथ दो पहिया वाहन भी पार्क किए जा सकेंगे।

हर लॉन में उपलब्ध होंगी जनसुविधाएं
पूरे क्षेत्र में 300 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। 19 एकड़ के नहर क्षेत्र को भी पुनर्विकसित किया गया है। ग्रीन कवर को व्यापक बनाया गया है और 101 एकड़ में लॉन को नए सिरे से तैयार किया गया है। इसमें अलग-अलग तरह की घास लगाई गई हैं। इसके अलावा पानी निकासी की भी बेहतर व्यवस्था की गई है। जामुन के पुराने पेड़ों को संरक्षित किया गया है और 140 नए पेड़ भी लगाए गए हैं। सभी आठ लॉन में बिक्री के स्थान, पीने के पानी की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा जन सुविधाएं भी हर लॉन में उपलब्ध रहेंगी। कुल 64 महिला शौचालय और 32 पुरुष शौचालय के साथ विकलांगों के लिए भी 10 शौचालय बनाए गए हैं। अलग-अलग स्थानों पर बिक्री की प्लाजा बनाए गए हैं। चार अंडर पास बनाए गए हैं ताकि भीड़भाड़ वाले ट्रैफिक को आसानी से पैदल पार किया जा सके।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *