• Sun. Jun 23rd, 2024

क्या प्रोस्टेट कैंसर का इलाज संभव है? जाने इसकी शुरूआती स्टेज

Byadmin

Sep 6, 2022

प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों में होने वाला दूसरा सबसे आम कैंसर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, 2020 में 10 मिलियन लोगों की मौत कैंसर के कारण हुई। वहीं, इसी साल दुनिया भर में, अनुमानित 1.41 मिलियन लोग प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित भी पाए गए। जिससे यह दुनिया में चौथा सबसे अधिक निदान किया जाने वाला कैंसर बन गया।

हालांकि प्रोस्टेट कैंसर के 60% मामलों का निदान 65 या उससे अधिक उम्र के लोगों में होता है, लेकिन कम उम्र के पुरुष भी इस बीमारी के शिकार हो सकते हैं। प्रोस्टेट कैंसर जेनेटिक, मोटापे जैसे कारकों से संबंधित लोगों में अन्य लोगों की तुलना में अधिक होता है। इस कैंसर का सबसे महत्वपूर्ण और गंभीर विशेषता यह है कि यह प्रोस्टेट के बाहर फैल सकता है, जिससे ऐसे लक्षण सामने आते हैं जो सामान्य मूत्र संबंधी लक्षणों से भिन्न हो सकते हैं।

​क्या है प्रोस्टेट कैंसर?
प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों में होने वाला गंभीर कैंसर है। यह कैंसर पुरुषों में पायी जाने वाली अखरोट आकार की प्रोस्टेट नामक गंथ्रि में होता है। यह छोटी ग्रंथि ही वीर्य बनाने में मदद करती है। आमतौर पर प्रोस्टेट कैंसर तब शुरू होता है जब प्रोस्टेट ग्रंथि में कोशिकाएं नियंत्रण से बाहर होने लगती हैं।

प्रोस्टेट कैंसर के कारण
प्रोस्टेट कैंसर के कारणों का कोई स्पष्ट उत्तर नहीं है। मेयो क्लिनिक के अनुसार, प्रोस्टेट कैंसर तब शुरू होता है जब प्रोस्टेट में कोशिकाएं अपने डीएनए में परिवर्तन विकसित करती हैं। ये असामान्य रूप से जमा होने वाली कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं जो आस-पास के ऊतकों पर पहला कर सकती है।

​प्रोस्टेट कैंसर के फैलने पर दिखते हैं ये लक्षण
शरीर के दूसरे भागों में प्रोस्टेट कैंसर पर फैलने पर सामान्य रूप से हड्डियों में दर्द, अत्यधिक थकान, अस्वस्थ होने की सामान्य भावना और अस्पष्टीकृत वजन कम होने जैसे लक्षण नजर आते हैं। इसके अलावा, कुछ लोगों को उस क्षेत्र के लिए विशिष्ट लक्षणों का अनुभव हो सकता है जहां कैंसर फैल गया है।

पैर में प्रोस्टेट कैंसर फैलने के संकेत
एडवांस प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण प्रसार द्वारा लक्षित स्थान के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। लेकिन पैर में फैलने वाले ट्यूमर का एक संकेत देखा जा सकता है, जो सूजन है।

कैंसर रिसर्च यूके के अनुसार, सूजन इसलिए होती है क्योंकि प्रोस्टेट कैंसर लिम्फ नोड्स में फैलता है। उस क्षेत्र में तरल पदार्थ के निर्माण के कारण पैरों में सूजन हो सकती है। सूजन को लिम्फोएडेमा कहा जाता है।

​शरीर के इन भागों में फैलता है प्रोस्टेट कैंसर
प्रोस्टेट कैंसर केवल स्थानीय क्षेत्र या लिम्फ नोड्स तक ही सीमित नहीं है। यह हड्डियों, आंतों, यकृत और फेफड़ों में भी फैल सकता है। लेकिन यह भी याद रखें कि पैरों में सूजन का मतलब प्रोस्टेट कैंसर होना जरूरी नहीं है। कई अन्य स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो पैर में सूजन और दर्द का कारण बन सकती हैं।

​प्रोस्टेट कैंसर के इन इशारों को न करें इग्नोर
प्रोस्टेट कैंसर आमतौर पर मूत्र संबंधी लक्षणों का कारण बनता है। इसमें बार-बार पेशाब आना, रात के दौरान ज्यादा पेशाब लगना, पेशाब करने में कठिनाई, पेशाब करते समय तनाव या कमजोर प्रवाह। इसके अतिरिक्त, इजेकुलेटिंग में कठिनाई, मूत्राशय पर दबाव महसूस होना और मूत्र या वीर्य में खून जैसे लक्षणों का भी अनुभव हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *